Trending News

June 23, 2021

हकीकत और दिखावा कहानी भाग-1 | अर्णब गोस्वामी

हकीकत और दिखावा कहानी भाग-1 | अर्णब गोस्वामी

LIKE THIS POST SHARE THIS POST WITH FAMILTY AND FRIENDS

मीडिया में आज बात अर्णब गोस्वामी की अगले सप्ताह बात करेंगे रवीश कुमार पर !!

अर्णब गोस्वामी नया नया हिंदू हितैषी, जैसे मानो हिंदुओं की सारी फिक्र इसी आदमी को हो!!

पालघर का मुद्दा हो या हिंदू मुस्लिम विवाद अर्णब हर किसी विषय पर मुखर होकर बोला. सुशांत सिंह मर्डर पर तो इतना ज़्यादा की उद्धव ठाकरे और पूरी फिल्म इंडस्ट्री से पंगा ले लिया . बेचारे को जेल तक में जाना पड़ा सीएम उद्धव के खिलाफ बोलने पर. आज तक डर के मारे अपने करोड़ों के घर (बंगले) में रहने मुंबई नहीं गया जेल से बाहर आने के बाद. दरअसल आप सोचते होंगे की अर्णब गोस्वामी एक कट्टर हिंदू है, या आपको ये वहम तो नहीं है की यह बहुत बड़ा देश भक्त है, लेकिन दरअसल आप गलत सोचते हैं. अर्णब गोस्वामी मोदी का आदमी है आप के मन में ये वहम तो नहीं. अर्णब गोस्वामी मोदी का नहीं MONEY भाई का आदमी है. अर्णब को जहां पैसा दिखता है. अर्णब वहीं जाता है. पिछले 3 साल में उसने 1200 करोड़ से ज़्यादा की सम्पति बना ली.

जिस रिप्बिलक मीडिया में वो एक कर्मचारी और छोटा सा शेयर धारक था आज वो उसका मालिक है. ARNAB GOSWAMI के आज के बारे में बात करने से पहले में इसके भूत काल पर आउंगा, उसके बाद आज पर बात करुंगा. ज़्यादा पीछे नहीं जाता हूं. जब से अर्णब को पहचान मिली वहीं से शुरूआत करते हैं. यूपीए सरकार में ये अर्णब गोस्वामी ही था जिसने गांधी परिवार का सबसे पहला INTERVIEW(साक्षातकार)
किया. जिसको सब भाजपा के लोग मीमस बनाकर अर्णब को कांग्रेस का एजेंट बता रहे थे. क्योंकि अर्णब ने राहुल से सब स्क्रिप्टड (SCRIPTED)सवाल पूछे थे. आप मेरे द्वारा ज़िक्र हर बात को गूगल पर चेक कर सकते हैं. मैं गलत हूं तो कमेंट बाक्स में लिखें आप को कुछ नहीं मिल रहा तो में खुद उसका लिंक दूंगा. हां तो राहुल गांधी का प्लान्ड INTERVIEW तक पहुंचा था अब उसके आगे. ये अर्णब गोस्वामी ही था जो मोदी को गुजरात का सीएम होते हुए गालियां निकालता था, और कातिल हत्यारा बोलता था.

सीएम मोदी पर खुद की गाड़ी पर हमले का आरोप लगाया था. योगी आदित्यनाथ को गालियां देता था. कांग्रेस के पक्ष में अंगद की तरह खड़ा रहता था. फिर अचानक बीजेपी के पक्ष में हवा का रुख देखकर पल्टी मार ली. फिर वहीं सब बातें जो कांग्रेस के लिए थी वो मोदी के लिए हो गई. अब कांग्रेस घोर विरोधी हो गई. दरअसल अर्णब गोस्वामी के अंदर एक खास बात है कि हवा का रुख पहचानने में ये दिवंगत राम विलास पासवान से भी 4 कदम आगे है. दरअसल रिपब्लिक टीवी पर जो आप चीखना और चिल्लाते एंकरों को देखते हो ये अर्णब का एक IDEA है. जब भी आप टीवी देखो तो आप को शोर सुनाई दे. जिस से आप का ध्यान उसके चैनल पर टिके. क्योंकि खबर क्या है इस से कोई वास्ता नहीं है. छोटी सी बात को भी कैसे चीख चीख कर कहते हैं ये तो आपने देखा ही होगा. आप पैसा दीजिए अर्णब के यहां कुछ भी चला लीजिए. अब केजरीवाल के खिलाफ आपने पिछले 6 महीने से रिप्बलिक टीवी पर कोई खबर सुनी, ये वहीं केजरीवाल है जो अर्णब को मुख्यमंत्री बनने के बाद INTERVIEW नहीं दिया था.

जिसकी पार्टी का कोई प्रवक्ता REPUBLIC BHARAT पर नहीं आता था. लेकिन अचानक सब आने लगे. केजरीवाल का महिमामंडन होने लगा. पता है क्यों क्योंकि केजरीवाल ने ADD जो दिया है. अर्णब गोस्वामी को हिदुत्व या मोदी से कोई वास्ता है अगर आप इस वहम में हो तो निकाल दीजिए. अर्णब गोस्वामी एक वामपंथी विचारधारा के व्यक्ति हैं लेकिन पूर्ण रूप से वामपंथी भी नहीं हैं. सनातन से इस आदमी का कोई सैद्धांतिक रिश्ता नहीं है. इंसान की कोई वैल्यू इस आदमी की नज़र में नहीं है. इस आदमी का चेहरा जो दिखता है वो है नहीं. इस त्रासदी में इसे सोचिए केजरीवाल ने कैसे चुप करवाया है कि दिल्ली हाई कोर्ट से इतनी फटकार के बाद भी इसने केजरीवाल के खिलाफ खबरें नहीं चलाई. अपने खुद के शो “पूछता है भारत” में एक सवाल नहीं किया, मोदी के खिलाफ तो ये पहले से नहीं बोलता. दरअसल ये देश से नहीं पैसों से प्यार करता है. हिंदुत्व इसको एक दर्शक वर्ग को खींचने का और पैसा कमाने का अवसर दिखता है.

अभी (SSR) सुशांत और बहुत से किस्से हैं जो मैं लिख सकता हूं लेकिन अभी नहीं लिखूंगा.

क्योंकि अभी तो आधी हकीकत आप के सामने रखी है कुछ महीनों बाद पार्ट टू रखुंगा तो बची हुई परतें भी खोलुंगा. आप सब से यहीं कहुंगा सच से प्यार करिए ये लोग तो सिर्फ आप के प्यार से पैसा कमाना चाहते हैं. आप की विचारधारा इनके लिए कोई मायने नहीं रखती कल सरकार बदल जाएगी अगर तो ये महोदय भी बदल जाएंगे. आज सोनिया को गालियां निकालने वाला अर्णब ये जानता है की सोनिया गांधी की उम्र अब बहुत ज्यादा है नहीं राजनीति करने के लिए और न ही वो बहुत ज्यादा वक्त तक राजनीति कर सकती हैं. इस लिए वो सोनिया के खिलाफ बोलता है. अगर अर्णब को लगे की कल सोनिया की सरकार आने वाली है आज ही अर्णब गोस्वामी सोनिया गांधी को दुर्गा बनाकर पूजने लगे. अर्णब गोस्वामी देश की इतनी बड़ी महामारी पर सवाल नहीं पूछ सकता सोचिए जो अर्णब गोस्वमी बात बातपर उद्धव ठाकरे चिल्लाता था. अब उस उद्धव ठाकरे के नाम से भी कांपता है वो कितना बड़ा देश भक्त है.

आप भी अगर देश भक्त हैं तो इन फर्जियों को अपना आदर्श ना मानें देश भक्ति दिल में रखिए. टीवी पर ये जो समाचार प्रस्तुत करते हैं ये तो सिर्फ आप के साथ खेलते हैं. अर्णब को पता था कि मोदी विरोध से मेरा काम नहीं चलेगा और न पैसा कमा पाउंगा. इसलिए मोदी भक्त बन गया, उसी तरह आप भी बनिए सिर्फ देश के साथ देने वाले विषय पर इनके साथखड़े रहें और जब ये भटकें तो इनका विरोध करें. हमारे देश से कोई अर्णब या कोई भी खेल ना पाए.

सुशांत केस को दिनभर टीआरपी के लिए घिसने वाले अब आप को क्या कोई खबर दिखाते हैं.

क्या सुशांत को इंसाफ मिल गया. इस पर सबूतों के साथ अगले अंक में मतलब 3 से 4 महीने बाद लिखुंगा. पढ़ते रहिए मेरे लेख अगले सप्ताह एक और मुद्दे पर करुंगा चर्चा.

– लेखक का नाम “डिविलियर के पापा”

लेखक के निजी विचार हैं

Enable Notifications    Subscribe us for regular updates !! No