Trending News

June 23, 2021

2021 में भी देश में महिला और पुरुष में भेदभाव किया जा रहा है, मामला भारतीय क्रिकेट टीम का है

2021 में भी देश में महिला और पुरुष में भेदभाव किया जा रहा है, मामला भारतीय क्रिकेट टीम का है

LIKE THIS POST SHARE THIS POST WITH FAMILTY AND FRIENDS

देश में दो क्रिकेट टीम हैं, भारतीय क्रिकेट (CRICKET) टीम की बात कर रहा हूं. एक पुरुषों की एक महिलाओं की. लेकिन सम्मान सिर्फ पुरुष टीम का क्या अभी भी हम लिंग भेद से बाहर नहीं निकले हैं. कोरोना (CORONA) के चलते हहाकार मचा है तो हर कोई अपना बचाव करना चाहता है. BCCI भी चाहती है की हमारी क्रिकेट (CRICKET) टीम सुरक्षित रहे. लेकिन महिला क्रिकेट (CRICKET) टीम भगवान भरोसे रहे.

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल (BCCI) बोर्ड का लिंग भेद अब सबके सामने आ गया है. भारत की पुरुष और महिला दोनों टीमों को एक साथ इंग्लैंड दौरे पर जाना है. बोर्ड ने पुरुष खिलाड़ियों से पता पूछ-पूछ कर कोरोना (CORONA) टेस्ट कराया है. एक खिलाड़ी का तीन-तीन बार टेस्ट हो रहा है. वहीं महिला खिलाड़ियों से कहा गया कि वे खुद टेस्ट कराएं और रिपोर्ट साथ लेकर आएं तभी उन्हें बायो बबल में एंट्री दी जाएगी.

महिला टीम को 19 मई तक बायो-बबल में एंट्री करने को कहा गया है. वहीं, इससे पहले BCCI ने मेन्स टीम को भी 19 मई तक मुंबई में क्वारैंटाइन होने को कहा था. बोर्ड ने खिलाड़ियों के मुंबई पहुंचने से पहले उनके घर पर ही कोरोना (CORONA) जांच की व्यवस्था की है, ताकि खिलाड़ियों को किसी तरह की कोई परेशानी न हो. खिलाड़ियों के साथ इंग्लैंड जाने वाले परिजनों की भी जांच होगी. बबल में एंट्री के वक्त भी बोर्ड ही पुरुष खिलाड़ियों की जांच कराएगा.

मेन्स प्लेयर्स को किसी तरह की कोई परेशानी न हो, इसके लिए बोर्ड ने सभी खिलाड़ियों के घर पर ही कोरोना (CORONA) जांच की व्यवस्था की है. महिला क्रकेट (CRICKET) टीम के लिए कोई व्यवस्था नहीं की गई है. उन्हें इस महामारी में खुद ही जांच करवाने को कहा गया है. ये खिलाड़ी अस्पताल या जांच सेंटर जाकर खुद जांच कराएंगी.

BCCI ने अपने फरमान में यह भी कहा है कि अगर कोई खिलाड़ी बायो बबल में कोरोना (CORONA) पॉजिटिव मिलता है, तो उसे टीम से बाहर कर दिया जाएगा. ऐसे में BCCI ने वुमन्स टीम को लेकर इतना बड़ा रिस्क लिया. क्या हम आज भी लिंग भेद के शिकार हैं जो महिला क्रकेटरों (CRICKET) के साथ ऐसा भेदभाव हो रहा है. BCCI को भारतीय महिला टीम को भी उतना ही सम्मान देना चाहिए जितना भारतीय पुरुष टीम को दिया जा रहा है.

Enable Notifications    Subscribe us for regular updates !! No